बुद्धि का अर्थ एवं परिभाषा | बुद्धि की विशेषताएं और प्रकार » Pratiyogita Today
प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी हेतु डिस्कसन करने के लिए हमारे फोरम पर जाएं।  Ask a Question

बुद्धि का अर्थ एवं परिभाषा | बुद्धि की विशेषताएं और प्रकार

शिक्षा मनोविज्ञान क्विज़ - Let's Start

इस आर्टिकल में बुद्धि का अर्थ एवं परिभाषा, बुद्धि की विशेषताएं, बुद्धि के प्रकार (अमूर्त बुद्धि, मूर्त बुद्धि, सामाजिक बुद्धि, संवेगात्मक बुद्धि, आध्यात्मिक बुद्धि), बुद्धि का संक्रमण आदि टॉपिक पर चर्चा की गई है।

बुद्धि का अर्थ (Intelligence meaning in hindi)

बुद्धि (intelligence) का अर्थ है – व्यक्ति की कार्य करने की कुशलता, प्रत्येक परिस्थिति में स्वयं को समायोजित करने की क्षमता तथा वातावरण के साथ अनुकूलन करने की योग्यता आदि से लिया जाता है। बुद्धि क्या है इसे स्पष्ट करने के लिए मनोवैज्ञानिकों ने अपनी-अपनी दृष्टि से बुुुद्धि की परिभाषाएं दिए हैं। सामान्य तौर पर बुद्धि के वर्गीकरण को निम्नलिखित चार वर्गों में बांटा जा सकता हैै –

(1) समायोजन की योग्यता (Adjustment of Ability) :

जिस व्यक्ति में जितनी शीघ्रता से स्वयं को नवीन वातावरण के प्रति समायोजन की क्षमता होती है वह व्यक्ति उतना ही बुद्धिमान माना जाता है। बुद्धि जीवन की नवीन समस्याओं के अनुकूलन की सामान्य योग्यता है।

कालविन (Calvin) के अनुसार, “एक व्यक्ति उसी अनुपात में बुद्धि रखता है जिस अनुपात में वह नए वातावरण में समायोजित होने की क्रिया सीख चुका है या सीख सकता है।”

स्टर्न (Stern) के अनुसार, “बुद्धि नवीन और भिन्न परिस्थितियों से भलीभांति समायोजन करने की योग्यता है।”

(2) अधिगम की योग्यता (Ability to Learn) :

कुछ मनोवैज्ञानिकों ने बुद्धि को अधिगम की योग्यता के रूप में परिभाषित किया है। जो व्यक्ति अपने पूर्वानुभव से भविष्य में कुशलतापूर्वक लाभ की क्षमता रखता है वह उतना ही बुद्धिमान कहा जाता है। इस वर्ग के विद्वानों की परिभाषाएं निम्न है :

बंकिघम के अनुसार, “सीखने की योग्यता बुद्धि है।” Intelligence is the ability to learn.

वुडरो के अनुसार, “बुद्धि ज्ञान का अर्जुन करने की क्षमता है।” Intelligence is the ability to acquire knowledge.

डियरबोर्न (Dearborn) के अनुसार, “बुद्धि सीखने या अनुभव का लाभ उठाने की योग्यता है।” Intelligence is the capacity to learn or to profit by experience.

पिटनर के अनुसार, “बुद्धि नई परिस्थितियों के साथ समायोजन करने की योग्यता है।”

(3) अमूर्त चिंतन की क्षमता (Ability to Abstract Thinking) :

कुछ मनोवैज्ञानिकों के अनुसार बुद्धि अमूर्त चिंतन की योग्यता है। कुछ परिभाषाएं इससे संबंधित निम्नलिखित हैं :

टर्मन (Terman) के अनुसार, “एक व्यक्ति उसी अनुपात में बुद्धिमान होता है जिसमें वह अमूर्त चिंतन की क्षमता रखता है।” Intelligence is the ability to think in terms of abstract ideas.

स्पियरमैन के अनुसार, “बुद्धि संबंधात्मक चिन्तन है।” Intelligence is relational thinking.

बिने (Binet) के अनुसार, “समझ (ज्ञान), अविष्कार, निर्देशन और आलोचना बुद्धि इन चार शब्दों में निहित है।”

(4) समस्या समाधान की क्षमता (Ability to Problem Solving) :

कुछ मनोवैज्ञानिक बुद्धि को समस्या समाधान की क्षमता के आधार पर परिभाषित करते हैं। इनमें मुख्य हैं :

बर्ट (Burt) के अनुसार, “बुद्धि भलीभाँति निर्णय करने, समझने तथा तर्क करने की योग्यता है।”

रायबर्न के अनुसार, “बुद्धि वह शक्ति है जो हमें समस्याओं के समाधान करने तथा अपने उद्देश्यों की प्राप्ति करने की क्षमता प्रदान करती है।”

बुद्धि की परिभाषा (Intelligence definition in hindi)

अधिकांश मनोवैज्ञानिकों का मत है कि बुद्धि व्यक्ति की जन्मजात शक्ति है और उसकी सब मानसिक योग्यताओं की योग एवं अभिन्न अंग है। आधुनिक शिक्षा में बुद्धि का यही अर्थ सर्वमान्य है। जिसे हम इन परिभाषा में देख सकते हैं :

कोलेसनिक के अनुसार, “बुद्धि कोई एक शक्ति या क्षमता या योग्यता नहीं है जो सब परिस्थितियों में समान रूप से कार्य करती है, वरन अनेक विभिन्न योग्यताओं की योग है।”

रैक्स व नाइट के अनुसार, “बुद्धि वह तत्व है जो सब मानसिक योग्यताओं में सामान्य रूप से सम्मिलित रहता है। यह परिभाषा इस शताब्दी की एक सबसे महत्वपूर्ण खोज का प्रतिष्ठापन करती है।”

मैकडुगल के अनुसार, “बुद्धि जन्मजात प्रवृत्तियों को पूर्वानुभव के प्रकाश में परिमार्जित करने की क्षमता है।”

वुडवर्थ के अनुसार, “बुद्धि कार्य करने की एक विधि है।” Intelligence is a way of acting.

हैनमान के अनुसार, “बुद्धि में दो तत्व होते हैं- ज्ञान की क्षमता और निहित ज्ञान।”

बुद्धि की विशेषताएं (intelligence characteristics in hindi)

बुद्धि की उपर्युक्त परिभाषाओं के आधार पर बुद्धि की निम्न विशेषताएं हैं :

  • बुद्धि अनुभव के आधार पर सीखने की एक मानसिक योग्यता है।
  • बुद्धि समस्याओं के समाधान खोजने में सहायक होती है।
  • बुद्धि पर्यावरण के साथ सामंजस्य स्थापित करने वाली मानसिक योग्यता है।
  • बुद्धि अमूर्त चिंतन (Abstract Thinking) की योग्यता है।
  • बुद्धि अधिगम (Learning) एवं अर्जित ज्ञान (Acquired Knowledge) का उपयोग अन्य परिस्थितियों में करने की योग्यता है।
  • अनुभव से लाभ उठाने की योग्यता है।
  • संबंधों को समझने की योग्यता है।
  • बुद्धि व्यक्ति की जन्मजात शक्ति है। (Innate Power)
  • बुद्धि व्यक्ति की कठिन परिस्थितियों और जटिल समस्याओं को सरल बनाती है।
  • बुद्धि पर वंशानुक्रम (Hereditary) और वातावरण (Environment) का प्रभाव पड़ता है।
  • बुद्धि व्यक्ति को भले और बुरे, सत्य और असत्य, नैतिक और अनैतिक कार्यों में अंतर करने की योग्यता देती है।
  • पिटनर के अनुसार बुद्धि का विकास जन्म से लेकर किशोरावस्था (Adolescent) के लगभग मध्यकाल तक होता है।
  • कॉल एवं ब्रुश के अनुसार लिंग भेद के कारण बालक और बालिकाओं में बहुत ही कम अंतर होता है।

बुद्धि के प्रकार (Types of intelligence in hindi)

बुद्धि ऐसी क्षमता है जो हमें समस्याओं का समाधान करने में सहायता देती है तथा विभिन्न परिस्थितियों में व्यक्ति इसका उपयोग करता है। इस आधार पर थार्नडाइक ने बुद्धि का वर्गीकरण निम्नलिखित आधार पर किया है :

अमूर्त बुद्धि (Abstract Intelligence)

अमूर्त बुद्धि क्या है- वह मानसिक क्षमता जो विचारों, प्रतीकों, संप्रत्ययों और अमूर्त कल्पनाओं में प्रयुक्त की जाती है। अर्थात ज्ञानोपार्जन एवं समस्या समाधान के रूप में अमूर्त बुद्धि का प्रयोग किया जाता है।

अमूर्त बुद्धि स्वयं के ज्ञानोंपार्जन के प्रति रुझान पढ़ने-लिखने, शब्दों व प्रतीकों के रूप में आने वाली समस्याओं को हल करने के द्वारा अपने को अभिव्यक्त करती है। इस बुद्धि में निपुण व्यक्ति अच्छा दार्शनिक, साहित्यकार, कवि, चित्रकार तथा वकील हो सकता है।

मूर्त बुद्धि (Concrete Intelligence)

मूर्त बुद्धि ऐसी मानसिक क्षमता है जिसका प्रयोग स्थूल अथवा दृष्टिगत वस्तुओं में किया जाता है। अर्थात वस्तुओं के पारस्परिक संबंधों को समझने एवं उनके संगठन के निर्माण में इस बुद्धि का प्रयोग किया जाता है। मूर्त बुद्धि को यांत्रिक या गामक बुद्धि (Mechanical or Dramatic Intelligence) भी कहते हैं। मूर्त बुद्धि को व्यावहारिक बुद्धि (Common Sense) भी कहते हैं।

जिन बालकों में मूर्त बुद्धि अधिक होती है उनमें हस्तकलाओं (Handcrafted) की क्षमता अधिक होती है तथा वे आगे चलकर एक सफल इंजीनियर या कुशल कारीगर बनाने में सफलता प्राप्त करते हैं।

सामाजिक बुद्धि (Social Intelligence)

समाज के साथ समायोजन में इस बुद्धि का प्रयोग किया जाता है। थार्नडाइक ने इसे एक ऐसी मानसिक योग्यता माना है जो व्यक्ति को सामाजिक परिस्थितियों में व अन्य व्यक्तियों के साथ सफलतापूर्वक कार्य करने में सहायक होती है।

सामाजिक बुद्धि का आधार व्यक्ति का व्यवहार कौशल है। इस बुद्धि में निपुण व्यक्ति अच्छा नेता, सामाजिक कार्यकर्ता, प्रबंधक, प्रशासनिक अधिकारी तथा परामर्शदाता हो सकता है।

संवेगात्मक बुद्धि (Emotional Intelligence)

संवेगात्मक बुद्धि को प्रकाश में लाने का श्रेय गोलमैन (Goalman) को जाता है। उनके अनुसार विभिन्न परिस्थितियों में आवश्यकता अनुसार उचित मात्रा में संवेग (Emotions) का प्रदर्शन करने की योग्यता इस बुद्धि के अंतर्गत आती है।

इसके अतिरिक्त इस प्रकार की बुद्धि वाला व्यक्ति अनावश्यक संवेगों पर सरलता से नियंत्रण भी कर लेता है। इस बुद्धि को धारित व्यक्ति एक अच्छा नेता, अभिनेता, कलाकार तथा प्रशासक हो सकता है।

आध्यात्मिक बुद्धि (spiritual intelligence)

आध्यात्म का ज्ञान या दर्शन अत्यंत गहरा एवं सूक्ष्म है। इसको समझने तथा समझाने के लिए जिस बुद्धि की आवश्यकता होती है उसे आध्यात्मिक बुद्धि कहते हैं। इस बुद्धि में निपुण व्यक्ति अच्छा दार्शनिक, धर्म उपदेशक तथा मार्गदर्शक बन सकता है।

बुद्धि का संक्रमण (Inheritance of intelligence)

बुद्धि के संक्रमण से तात्पर्य है कि बुद्धि एक पीढ़ी से आगामी पीढ़ी को संक्रमित होती है। अनेक अध्ययनों से यह सिद्ध हो चुका है कि बुद्धि संक्रमित होती है।

जैसे सहसंबंध विधि में बताया गया है की यदि पिता प्रतिभाशाली है तो बालक भी कम से कम उच्च बौद्धिक योग्यता वाला तो होगा ही। मंदबुद्धि पिता मंदबुद्धि बालक को जन्म देता है।

इसी प्रकार जुड़वां भाई, सहोदर, चचेरे भाई-बहन आदि के बौद्धिक स्तरों का भी पता लगाया गया तो यह पाया गया कि रक्त का संबंध जितना निकट होगा, बुद्धि का सहसंबंध उतना ही अधिक होगा। जुड़वा भाइयों में यह सह-संबंध सर्वाधिक होता है।

संक्रमण की समस्या का अध्ययन करने के लिए मनोवैज्ञानिकों ने सहसंबंध विधि, परिवार इतिहास विधि, यमजैक नियंत्रण विधि, धात्रेय बालक अध्ययन आदि विधियों का सहारा लिया।

इन अध्ययनों से ज्ञात होता है कि बुद्धि का संक्रमण होता है किंतु बुद्धि को प्रभावित करने में वंशानुक्रम ही पर्याप्त नहीं है। आधुनिकतम मनोविज्ञान साहित्य यह बताता है कि बौद्धिक विकास पर वातावरण भी उल्लेखनीय प्रभाव डालता है। अतः बुद्धि लब्धि स्थिर (Stable) नहीं होती है उनमें वातावरण की उपयुक्तता के आधार पर परिवर्तन होता है।

बुद्धि का अर्थ एवं परिभाषा, बुद्धि की विशेषताएं, बुद्धि के प्रकार
Intelligence in hindi

Also Read :

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs)

  1. बुद्धि के संक्रमण से क्या तात्पर्य है?

    उत्तर : बुद्धि के संक्रमण से तात्पर्य है कि बुद्धि एक पीढ़ी से आगामी पीढ़ी को संक्रमित होती है। अनेक अध्ययनों से यह सिद्ध हो चुका है कि बुद्धि संक्रमित होती है।

  2. क्या बुद्धि लब्धि स्थिर होती है?

    उत्तर : बौद्धिक विकास पर वातावरण उल्लेखनीय प्रभाव डालता है। अतः बुद्धि लब्धि स्थिर (Stable) नहीं होती है उनमें वातावरण की उपयुक्तता के आधार पर परिवर्तन होता है।

  3. संवेगात्मक बुद्धि को प्रकाश में लाने का श्रेय किसे दिया जाता है?

    उत्तर : बुद्धि को प्रकाश में लाने का श्रेय गोलमैन (Goalman) को जाता है।

  4. बुद्धि के अर्थ को स्पष्ट किजिए?

    उत्तर : बुद्धि (Intelligence) का अर्थ है व्यक्ति की कार्य करने की कुशलता, प्रत्येक परिस्थिति में स्वयं को समायोजित करने की क्षमता तथा वातावरण के साथ अनुकूलन करने की योग्यता आदि से लिया जाता है।

Sharing Is Caring:  
About Mahender Kumar

My Name is Mahender Kumar and I do teaching work. I am interested in studying and teaching compititive exams. My education qualification is B. A., B. Ed., M. A. (Political Science & Hindi).

Leave a Comment